?

Log in

Previous Entry | Next Entry

Прийшов перший переклад листа підтримки. На хінді) Тепер стало стрьомно, чи там все правильно перекладено))) Гугл транслейт перекладає некоректно чомусь і якимись шматками.
Зате виглядає дуже красиво))

हम लोग 'रोड ऑफ़ मिथ्स' - 'मिथ्यो की राह' जो की एक पुरातत्व और समुदायों से जुड़ा प्रोजेक्ट है, का पूरी तरह समर्थन करते हैं . इस प्रोजेक्ट के नियमो के अनुसार, २०१२ में ये प्रोजेक्ट किया जायेगा और एक टीम जिसमे भू विशेषज्ञ, वैज्ञानिक, समाज शाश्त्री , कलाकार, चित्रकार और फोटोग्राफी से जुडे लोग शामिल होंगे - वो लोग हिंदुस्तान-पाकिस्तान-चीन -ताजिकिस्तान-अफ्घनिस्तान-उज्बेकिस्तान-कजाख्स्तान-रूस-उक्रेन होते हुए एक लम्बा सफ़र पैदल पूरा करेंगे.

इस कार्यक्रम में शामिल लोग वो सभी सभ्यताएं , कलाएं, कहानियां, कलाकृतियाँ, पावन धर्म और मूर्तियाँ, भाषाएँ और दूसरी ऐसी मिलती जुलती चीजों का विश्लेषण करेंगे जो की भारत और यूरोप दोनों में पायी जाती हैं.
इस हजारो साल पुरानी सांस्कृतिक और पुरातात्विक सड़क का सफ़र करके ये विशेषज्ञ इस बात का पता लगायेंगे की, क्या आज का एक आज के युग का मॉडर्न इंसान एक बंजारे की तरह अपना जीवन बिता सकता है ? अगर बिता सकता है तो इस सफ़र से उसका जीवन की तरफ नजरिया कैसे बदलता है ? उसकी सोच कैसे बदलती है.

ये रोड ऑफ़ मिथ्स एक प्रयास है केवल ज्ञान, इंसानी दिमाग की फितरत और मानव शक्ति को जानने के लिए - कोई भी टीम मेम्बर किसी तरह से पैसा नहीं कमा रहा, ना ही किसी तरह का व्यवसायिक या बिजनेस इस प्रोजेक्ट से जुड़ा है.

इस पूरे प्रोजेक्ट/कार्यक्रम का मकसद केवल ऐसा ज्ञान बटोरना है जिसके माध्यम से ये लोग भारतवर्ष और यूरुप के बीच एक सम्बन्ध बना सकें और समझें की कैसे हजारो सालो पहले हमारे पूर्वजो ने ये रास्ता चुना था अपने धर्म- अपनी संस्कृति और अपनी आगे की संतानों के लिए.

कृपया इन लोगो की मदद करें और इनका ये सफ़र आसान बनाएं . धन्यवाद.

На черзі тепер пушту та урду.

Comments

( 3 comments — Leave a comment )
my_shedow
Jul. 6th, 2011 03:06 pm (UTC)
ВАААААААААААААААА!!!!
оце крутєнь!
такі красіві буковки....я б хотіла вивчати їх писемність...
v_dorozi
Jul. 6th, 2011 04:10 pm (UTC)
ммм, вельми глибоко виглядає... о_О)
staburetom
Jul. 9th, 2011 06:53 pm (UTC)
все нормально. в другому абзаці рід неправильно вказаний у слові "вічність"...
( 3 comments — Leave a comment )